sugar mill ambala
Ambala News

किसानों की बकाया गन्ना पेमंट को लेकर हुई महापंचायत

Spread the love

बनोंदी शुगर मिल के सामने सैंकड़ो की संख्या में पहुंचे किसान, पुलिस के पुख्ता इंतजाम

वीरवार 1 सिंतबर 2022 जिला अम्बाला के नारायणगढ में एक बार फिर से किसानों की महापंचायत हुई। इस महापंचायत में सैंकड़ो की संख्या में विभिन्न क्षेत्रों से आए किसानों ने भाग लिया। भारतीय किसान यूनियन शहीद भगत सिंह के वरिष्ठ नेता बजिंद्र कंबोज ने बताया कि किसान लंबे समय से अपनी मांगो को लेकर संघर्ष कर रहें है। बनोंदी शुगर मिल में कई बार किसानों के सामने बकाया राशि के भुक्तान की समस्या आ चुकी है। भविष्य में इस प्रकार की कोई समस्या सामने न आए इसी के चलते आज यहां पर पंचायत का आयोजन किया गया है। इसके अलावा विभिन्न मुद्दो पर भी किसान चचा कर रहे है। उन्होनें बताया कि इस वर्ष पहले एक ओर जहां गेंहू की फसल खराब हुई तो उसके बाद सूरजमुखी की फसल में भी किसानों को भारी आर्थिक हानि का सामना करना पड़ा अब उसके बाद धान में भी बिमारी आ गई है। जिसके चलते किसान बेहद परेशान है तथा यही चिंता सताए जा रही है कि धान की पैदावार कम होगी। उन्होने यह भी बताया कि इस संबंध में डीसी व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को ज्ञापन भी दिए जा चुके है। लेकिन अभी तक कोई भी कार्रवाई नहीं हुई।

आज नारायणगढ़ शुगर मिल में किसानों के गन्ने के बकाया भुगतान ,जुमला मालिकाना,देह शामलात जमीनों के हक दिलाने ,और धान के बौने रहने की समस्या से परेशान किसानों को उचित मुआवजा दिलाने के लिए एक किसान पंचायत शुगर मिल नारायणगढ़ के सामने हुई ,जिसमे सयंक्त किसान मोर्चा के नेता डॉ दर्शन पाल ,सुरेश कौथ ,इड्व सर छोटूराम जगदीप सिंह औलख ,पगडी संभाल से मंदीप नथवाण, शहीद भगत सिंह गुट के अमरजीत सिंह गन्ना संघर्ष समिति के सदस्यों ने मिलकर पंचायत का आयोजन करवाया।

इन दिनों किसानों की जमीनों का मामला भी गर्माया रहा। किसानों का कहना था कि उनकी जमीने न ली जाएं। सरकार को चाहिए कि वह उनकी जमीनों को बचाने के लिए शीघ्र कदम उठाए जाए । गन्ने की 62 करोड़ रूपए की बकाया पेमंट का भक्तान किसानों को जल्द ही किया जाए। इसके साथ ही आज कल पशुओं में फैल रहा है जिसके कारण कई पशु पालकों के पशुओं की मौत हो गई है। उन किसानों को भी मुआवजा दिया जाए। इसके साथ लंपी के उपचार के लिए सख्त कदम उठाए जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.