मौके पर मिले 125 स्टूडेंट, पुलिस ने किया मामला दर्र्ज

24 जून वीरवार 2021
अंबाला (सिटी मीडिया) अंबाला पुलिस ने आज एक गुप्त सूचना के आधार पर जलबेड़ा रोड पर एक बिल्डिंग में छापेमारी की। छापेमारी के दौरान पुलिस ने मीडिया को यहां से दूर रखा और मौके पर काफी देर तक कार्रवाई चलती रही। पुलिस को जानकारी मिली थी की कुछ लोग डायनेमिक बैनीफिशियल अकोर्ड मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेंड नाम की कंपनी चला रहे है। बिल्डिंग के बाहर आईएफसीसी नाम का बोर्ड लगा हुआ है। यह लोग विभिन्न राज्यों के युवाओं को नौकरी का झांसा देकर और सामान की बिक्री के ज्यादा कमीशन का लालच देकर बुलाते थे और आज भी करीब 100 से अधिक युवक कोरोना नियमों का उल्लघंन करते हुए कोचिंग व ट्रेनिंग का काम कर रहे है। इस पर पुलिस ने वहां पर छापेमारी की। पुलिस को यहां मौके पर 125 स्टूडेंटस मिले और कम्पयूटर पर काम कर रहे थे। यहां पर मार्केटिंग व अन्य चीजो की कम्पयूटर पर ट्रेनिंग दी जाती थी। कोरोना काल में इस तरह का इंस्टीटयूट या ट्रेनिंग सेंटर खोलने की बिल्कुल भी अनुमति नहीं हैै।

पुलिस ने यहां से सामान जब्त किया है तथा युवको को पूछताछ के लिए अपने साथ लेकर गयी है। सूूत्रो से यह भी जानकारी मिली है कि इस कंपनी के पास आने वाले युवको से पैसे लेकर उन्हे कुछ प्रोडक्ट दिये जाते थे और उन्हें आनलाइन बेचने के लिए कहा जाता था, जो युवक इस कंपनी के झांसे में आकर पैसे गंवाते थे, उन्हे आगे से आगे और युवको को अपने साथ लाने के लिए कहा जाता था। फिलहाल पुलिस हर पहलू से मामले की जांच कर रही हैै। इस सबंध डीएसपी सुल्तान सिंह ने कहा कि शिकायत के आधार पर यहां छापेमारी की गयी थी। कोरोना काल में यहां बिना अनुमति व लाइसेंस के यहां बड़ी संख्या में युवको को एक स्थान पर इक्टठा कर ट्रेनिंग दी जा रही थी। पुलिस ने इस मामले में विकास, अखिलेश, केवल कृष्ण, प्रेम प्रसाद, संजीव कुमार व गुलशन के खिलाफ धोखाधड़ी व कोरोना नियमों की उल्लघंना का मामला दर्ज किया है।

आस पास के लोगो ने मीडिया को बताया की यहां पर लम्बे समय से सेंटर चल रहा था। यहां पर सुबह से शाम तक युवक युवतियां जो की अलग अलग राज्यो से संबंधित थी आते थे। लोगो ने बताया की हमें यह नहीं पता की यह किस चीज का ट्रेनिंग सैंटर था और यहां पर सब कुछ गुप-चुप तरीके से चल रहा था। वहीं कुछ लोगो ने यह भी बताया की असल में यह एमएलएम कंपनी का दफ्तर है। जहां युवाओं को चेन सिस्टम के जरिये ठगने का काम किया जा रहा था। कुछ लोगो ने यह भी बताया की अक्सर इस बिल्डिंग से लड़के लड़कियां हाथों में डारियां लेकर नीचे उतरते और जाते दिखाई देते थे। लेकिन हमे नहीं पता की यह कार्यालय किन लोगो का है। कार्यालय के बाहर अक्सर ही युवाओं की भीड़ लगी रहती थी। लेकिन यह कोई नहीं जानता था कि युवा यहां पर क्या करने आते थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here