Haryana Chief Minister in Kurukshetra
News Haryana

कुरुक्षेत्र में मनाया गया विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस राज्य स्तरीय समारोह ।

Spread the love

सिटी मीडिया (कुरुक्षेत्र) : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि देश की आजादी के जश्न से पहले हमें उन्हें याद करना चाहिए, जिन्होंने पीड़ा और दर्द झेला।

इसी याद को बनाए रखने के लिए प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर विभाजन विभीषिका स्मारक बनाए जा रहे हैं। कुरुक्षेत्र के मसाना गांव में देश का विश्व स्तरीय शहीदी स्मारक बनाया जा रहा है। इस स्मारक पर लगभग 200 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इस मानवीय कार्य के लिए पंचनद स्मारक ट्रस्ट ने 25 एकड़ भूमि सरकार को दान में देने की घोषणा की है। ऐसा ही एक स्मारक फरीदाबाद के बड़खल में बनाया गया है।

मुख्यमंत्री ने पंचनद स्मारक ट्रस्ट को शहीदी स्मारक ट्रस्ट बनाने के निर्देश देते हुए कहा कि यह ट्रस्ट अर्ध सरकारी हो। उन्होंने कहा कि ऐसा स्मारक बनाया जाएगा जो राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाएगा। समाज का हर व्यक्ति अपने सामथ्र्य अनुसार इसमें योगदान देगा। उन्होंने आश्वस्त किया कि वे भी इस ट्रस्ट के सदस्य होने के नाते इसमें भरपूर सहयोग देंगे।

कार्यक्रम स्थल पर पहुंचते ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सर्व प्रथम सूचना जनसंपर्क एवं भाषा विभाग व हरियाणा इतिहास एवं संस्कृति अकादमी द्वारा लगाई गई दो प्रदर्शनियों का उद्घाटन व अवलोकन किया।

M L Khattar
सूचना जनसंपर्क एवं भाषा विभाग व हरियाणा इतिहास एवं संस्कृति अकादमी द्वारा लगाई गई दो प्रदर्शनियों का उद्घाटन व अवलोकन करते मुख्यमंत्री मनोहर लाल

कार्यक्रम स्थल पर पहुंचते ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सर्व प्रथम सूचना जनसंपर्क एवं भाषा विभाग व हरियाणा इतिहास एवं संस्कृति अकादमी द्वारा लगाई गई दो प्रदर्शनियों का उद्घाटन व अवलोकन किया। इन प्रदर्शनियों में विभाजन के दौरान की यादों को तस्वीरों, कार्टून व खबरों के माध्यम से प्रदर्शित किया गया है। इसके पश्चात मुख्यमंत्री ने मुख्य मंच से नीचे आकर विभाजन विभीषिका को झेलने वाले बुजुर्गों से मुलाकात की और उन्हें सम्मानित किया। मुख्यमंत्री के मंच से नीचे आकर सम्मानित करने पर कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने जोरदार तालियां बजाकर उनका अभिवादन किया और बुजुर्ग भी भावविभोर हुए।

इस अवसर पर पंचनद स्मारक ट्रस्ट के प्रदेश अध्यक्ष व थानेसर विधायक सुभाष सुधा, ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी धर्मदेव जी महाराज, विधायक घनश्याम दास अरोड़ा, पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर, किरण चोपड़ा व गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज ने भी अपने विचार रखे। इस मौके पर सांसद संजय भाटिया, सांसद नायब सैनी, सांसद रतनलाल कटारिया, सांसद अरविंद शर्मा, विधायक सीमा त्रिखा, विधायक कृष्ण मिड्ढा, विधायक विनोद भ्याणा, विधायक प्रमोद विज, विधायक लक्ष्मण नापा, विधायक हरविंद्र कल्याण, पूर्व मंत्री कर्णदेव काम्बोज, पूर्व विधायक भगवानदास कबीरपंथी मौजूद रहे।

शिक्षा नीति से होगा आदर्श नागरिकों का निर्माण, देश के लिए महत्वपूर्ण : मनोहर लाल ।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल
कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के सीनेट हॉल में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन के अवसर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। भारत आज विश्व में तीसरी  बढ़ी आर्थिक शक्ति के रूप में उभरकर आया है। शिक्षा मानव निर्माण का आधार होता है । शिक्षा के साथ केवल भौतिक निर्माण से ही काम नहीं चलता बल्कि मानव शक्ति के रूप में अच्छे नागरिकों का निर्माण कर राष्ट्र आगे जाएगा । वे  रविवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के सीनेट हॉल में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविधालय द्वारा लागू की गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की स्मारिका का विमोचन भी किया गया।

मीडिया को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विद्वतजनों, चिंतकों, शिक्षकों, विद्यार्थियों सहित 2 लाख बुद्धिजीवियों से परामर्श कर लागू करने का निर्णय लिया। राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को वर्ष 2025 तक हरियाणा के सभी विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में लागू करने का निर्णय लिया गया है। उच्च शिक्षा स्थानीय भाषा में होनी चाहिए। स्थानीय भाषा का अपना महत्व है। हमें अपनी पीढिय़ों को सही इतिहास पढ़ाना है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर कुरुक्षेत्र में आज विभाजन विभीषिका दिवस मनाया गया है। हमारे देश का शिक्षा के क्षेत्र में पुराना इतिहास है। यहां उच्च कोटि के लेखक है। हमारा लक्ष्य है कि शिक्षा की पहुंच हर व्यक्ति तक हो व सभी को रोजगार मिले।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हमारे देश में दिमाग की कमी नहीं है। हमें हमेशा कुछ न कुछ सीखते रहने चाहिए। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अन्तर्गत तहत् पाठ्यक्रमों में विद्यार्थियों के लिए बहुत संभावनाएं हैं। छात्रों का समग्र विकास व चरित्र निर्माण होना शिक्षा का पहला व अंतिम लक्ष्य है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य सभी छात्रों को उच्च शिक्षा प्रदान करना, छात्रों को कला, मानविकी, विज्ञान, खेल और व्यावसायिक विषयों में अध्ययन करने के लिए लचीलेपन और विषयों की पसंद को बढ़ाना है। इसी दिशा में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय का यह प्रयास सराहनीय है। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने के लिए कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा को बधाई दी।

https://googleads.g.doubleclick.net/pagead/ads?client=ca-pub-7451578635378674&output=html&h=280&adk=1627976696&adf=749873407&pi=t.aa~a.1381849204~i.17~rp.4&w=750&fwrn=4&fwrnh=100&lmt=1660675001&num_ads=1&rafmt=1&armr=3&sem=mc&pwprc=7282111201&psa=1&ad_type=text_image&format=750×280&url=https%3A%2F%2Fgajabharyana.com%2F13838%2F&fwr=0&pra=3&rh=188&rw=749&rpe=1&resp_fmts=3&wgl=1&fa=27&dt=1660675001386&bpp=2&bdt=1383&idt=-M&shv=r20220815&mjsv=m202208100101&ptt=9&saldr=aa&abxe=1&cookie=ID%3Dc75b993c77c22b22-22bc66c399d500c0%3AT%3D1660481640%3ART%3D1660481640%3AS%3DALNI_Mb3WpjAVEF7aBaSAGS-FyKnvXnBQQ&gpic=UID%3D0000089bc7a7fc6d%3AT%3D1660481640%3ART%3D1660674982%3AS%3DALNI_Mas_qdiV3e9XwIagm2s5Ke3-fZQzQ&prev_fmts=0x0%2C1140x280%2C750x280&nras=4&correlator=7895744202342&frm=20&pv=1&ga_vid=1575208157.1660675001&ga_sid=1660675001&ga_hid=840663538&ga_fc=0&u_tz=330&u_his=5&u_h=768&u_w=1366&u_ah=728&u_aw=1366&u_cd=24&u_sd=1&adx=495&ady=2349&biw=1349&bih=615&scr_x=0&scr_y=0&eid=44759875%2C44759926%2C44759842%2C31068921&oid=2&pvsid=4494804190926642&tmod=433249726&nvt=1&ref=https%3A%2F%2Fgajabharyana.com%2F&eae=0&fc=1408&brdim=-8%2C-8%2C-8%2C-8%2C1366%2C0%2C1382%2C744%2C1366%2C615&vis=1&rsz=%7C%7Cs%7C&abl=NS&fu=128&bc=31&ifi=4&uci=a!4&btvi=2&fsb=1&xpc=bOiUTx5Oqj&p=https%3A//gajabharyana.com&dtd=201 इस अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आईआईएचएस संस्थान के नए भवन का उद्घाटन भी किया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने क्रश हॉल में आजादी के अमृत महोत्सव और हर घर तिरंगा कार्यक्रम के अंतर्गत लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया व इसकी सराहना की तथा क्रश हॉल के बाहर पौधारोपण भी किया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाशोत्सव पर संगीत एवं नृत्य विभाग द्वारा बनाए गए संदेश गीत का लोकार्पण किया। उन्होंने कुवि महिला अध्ययन केन्द्र व कुवि एलुमनाई एसोसिएशन की ओर से निशुल्क सिलाई एवं कढ़ाई प्रशिक्षण केन्द्र का शुभारंभ करके जरूरतमंद महिलाओं को सिलाई मशीन वितरित की।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मार्गदर्शन में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय हरियाणा प्रदेश व देश में सर्वप्रथम राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का शुभारंभ करने जा रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में नैतिक मूल्य आधारित शिक्षा का प्रावधान है। यह शिक्षा नीति भविष्य के भारत को ध्यान में रखकर बनाई गई है और हमारे पाठ्यक्रम भी वैश्विक स्तर के हों, इसका भी ध्यान रखा गया है। भारत की आने वाली पीढिय़ों का सर्वांगीण विकास हो यही राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 का मूल उदेश्य है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में इस सत्र से आधुनिक विषयों के 14 ऑनलाइन कोर्सिज भी शुरू किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published.